Hindustanmailnews

बिजनेस

आज शेयर मार्केट में भी निफ्टी इंडेक्स ने मनाया अयोध्या में होने वाली राम मंदिर का जश्न 22.1.24 -22124 का छुआ आंकड़ा…..

शेयर बाजार में तगड़ी मुनाफावसूली; सेंसेक्स 200 अंक नीचे बंद, निफ्टी 22032 पर फिसला

Stock Market Highlights: प्रमुख इंडेक्स लाल निशान में बंद हुए. सेंसेक्स 199 अंक गिरकर 73,128 पर आ गया. निफ्टी भी 65 अंक फिसलकर 22,032 पर बंद हुआ. बाजार में आज सबसे ज्यादा बिकवाली IT, फार्मा और रियल्टी सेक्टर में दर्ज की गई…

 शेयर बाजार में मंगलवार को तेज मुनाफावसूली दर्ज की गई. प्रमुख इंडेक्स लाल निशान में बंद हुए. सेंसेक्स 199 अंक गिरकर 73,128 पर आ गया. निफ्टी भी 65 अंक फिसलकर 22,032 पर बंद हुआ. बाजार में आज सबसे ज्यादा बिकवाली IT, फार्मा और रियल्टी सेक्टर में दर्ज की गई. निफ्टी में डिविज लैब और HCL Tech 2-2 फीसदी गिरकर टॉप लूजर रहे. जबकि BPCL करीब 3% चढ़कर टॉप गेनर रहा. इससे पहले सोमवार को सेंसेक्स 759 अंक ऊपर 73,327 पर बंद हुआ था.

Stock Market Highlights: शेयर बाजार बंद

  • रिकॉर्ड हाई बनाने के बाद बाजार में मुनाफावसूली
  • लगातार 5 दिन की तेजी के बाद बाजार में गिरावट
  • निफ्टी और सेंसेक्स ने नया रिकॉर्ड स्तर छुआ
  • निफ्टी ने 22,124 का नया रिकॉर्ड बनाया
  • सेंसेक्स ने 73,427 का रिकॉर्ड स्तर छुआ
  • निफ्टी 65 अंक गिरकर 22,032 पर बंद
  • सेंसेक्स 199 अंक गिरकर 73,128 पर बंद
  • निफ्टी बैंक 33 अंक गिरकर 48,125 पर बंद

Share Market: निफ्टी ने नए ऑल टाइम हाई का बनाया रिकॉर्ड, बैंकिंग शेयरों में मजबूती से पहली बार 21600 के पार

Share Market: निफ्टी एक बार फिर अपने नए ऑल टाइम हाई पर पहुंच गया है। बुधवार के कारोबारी सेशन के दौरान निफ्टी अपने नए ऑल टाइम हाई 21,603.40 के स्तर पर पहुंच गया। इस दौरान हिंडाल्को के शेयर 3.93 प्रतिशत की बढ़त के साथ 602.65 रुपये के भाव पर कारोबार करते दिखे। टाटा मोटर्स, टाटा स्टील, एसबीआई लाइफ और इंडसइंड बैंक के शेयरों में भी बढ़िया मजबूती दिखी।

भारतीय शेयर बाजार में बुधवार को बढ़िया तेजी दिख रही है। इस दौरान सेंसेक्स और निफ्टी लगातार हरे निशान पर कारोबार कर रहे हैं। निफ्टी एक बार फिर अपने नए ऑल टाइम हाई पर पहुंच गया है। बुधवार के कारोबारी सेशन के दौरान निफ्टी अपने नए ऑल टाइम हाई 21,603.40 के स्तर पर पहुंच गया। फिलहाल यह 21,589 के लेवल पर कारोबार कर रहा है। निफ्टी में हिंडाल्को के शेयर सबसे ज्यादा 3.93 प्रतिशत की बढ़त के साथ 602.65 रुपये के भाव पर कारोबार करते दिखे। टाटा मोटर्स, टाटा स्टील, एसबीआई लाइफ और इंडसइंड बैंक के शेयरों में भी बढ़िया मजबूती दिखी।

Share Market: निफ्टी ने नए ऑल टाइम हाई का बनाया रिकॉर्ड, बैंकिंग शेयरों में मजबूती से पहली बार 21600 के पार

बिजनेस डेस्क, अमर उजाला, नई दिल्ली Published by: कुमार विवेक Updated Wed, 27 Dec 2023 12:51 PM IST

सार

1159 Followersबिज़नेस डायरी

Share Market: निफ्टी एक बार फिर अपने नए ऑल टाइम हाई पर पहुंच गया है। बुधवार के कारोबारी सेशन के दौरान निफ्टी अपने नए ऑल टाइम हाई 21,603.40 के स्तर पर पहुंच गया। इस दौरान हिंडाल्को के शेयर 3.93 प्रतिशत की बढ़त के साथ 602.65 रुपये के भाव पर कारोबार करते दिखे। टाटा मोटर्स, टाटा स्टील, एसबीआई लाइफ और इंडसइंड बैंक के शेयरों में भी बढ़िया मजबूती दिखी।

Nifty above 21,600, hits fresh peak; Sensex rises 500 points; PSU Banks, metals top sectoral gainer

शेयर मार्केट ऑल टाइम हाई – फोटो : amarujala.com

Reactions

विस्तारFollow Us

भारतीय शेयर बाजार में बुधवार को बढ़िया तेजी दिख रही है। इस दौरान सेंसेक्स और निफ्टी लगातार हरे निशान पर कारोबार कर रहे हैं। निफ्टी एक बार फिर अपने नए ऑल टाइम हाई पर पहुंच गया है। बुधवार के कारोबारी सेशन के दौरान निफ्टी अपने नए ऑल टाइम हाई 21,603.40 के स्तर पर पहुंच गया। फिलहाल यह 21,589 के लेवल पर कारोबार कर रहा है। निफ्टी में हिंडाल्को के शेयर सबसे ज्यादा 3.93 प्रतिशत की बढ़त के साथ 602.65 रुपये के भाव पर कारोबार करते दिखे। टाटा मोटर्स, टाटा स्टील, एसबीआई लाइफ और इंडसइंड बैंक के शेयरों में भी बढ़िया मजबूती दिखी।

Trending Videos

वैश्विक बाजारों में बढ़त के बाद बैंकिंग, ऑटो और आईटी सेक्टर के शेयरों में मजबूती के बल पर बुधवार को भी भारतीय शेयर बाजार में हरे निशान पर कारोबार की शुरुआत हुई। निफ्टी पहली बार 21,600 के लेवल पर पर करने में सफल रहा। सुबह 12 बजकर 15 मिनट पर निफ्टी 141 अंकों या 0.66 प्रतिशत की बढ़त के साथ 21,582 के स्तर पर कारोबार करता दिखा। वहीं दूसरी ओर, सेंसेक्स 482 अंकों या 0.68 प्रतिशत की बढ़त के साथ 71,819.10 के लेवल पर कारोबार करता दिखा।

सेंसेक्स के शेयरों में अल्ट्राटेक सीमेंट, पावर ग्रिड और टाटा मोटर्स के शेयर एक प्रतिशत से अधिक की बढ़त के साथ टॉप गेनर्स के रूप में कारोबार करते दिखे। जेएसडब्ल्यू स्टील, इंफोसिस, टाटा स्टील और एलएंडटी के शेयर भी बुधवार को बढ़त के साथ खुले। इस दौरान केवल एचडीएफसी बैक और सन फार्मा के शेयरों में लाल निशान पर शुरुआत हुई। बुधवार के कारोबार के दौरान अदाणी एनर्जी सॉल्यूशंस के शेयरों में पीएफसी कंसल्टिंग की ओर से हलवाड ट्रांसमिशन के एसपीवी (स्पेशल पर्पस व्हीकल) के अधिग्रहण के लिए एलओआई (लेटर ऑफ इंटेंट) मिलने के बाद चार प्रतिशत की बढ़त आई।

वहीं सरकारी स्वामित्व वाले एसजेवीएन के शेयरों में भी 4.4 प्रतिशत की बढ़त दर्ज की गई। सेक्टरवार बात करें निफ्टी मेटल के शेयर 0.64% उछले। निफ्टी आईटी इंडेक्स 0.6% उछला। निफ्टी बैंक, ऑटो, फाइनेंशियल सर्विसेज, एफएमसीजी, रियल्टी और फर्मा सेक्टर के शेयर भी बढ़त के साथ खुले। व्यापक बाजार में निफ्टी मिडकैप 100 में 0.54% का उछाल आया जबकि स्मॉलकैप 100 0.7 प्रतिशत चढ़ा।

शेयर बाजार की रिकॉर्डतोड़ शुरुआत

मुंबई, एजेंसी। सेंसेक्स आज एक और नया इतिहास रचते हुए 70500 के पार चला गया। आज इसने 70540 का नया आॅल टाइम बनाया, जबकि निफ्टी पहली बार 21,189 के स्तर पर पहुंचा। सुबह 10:11 बजे के करीब निफ्टी 242 अंकों की बंपर तेजी के साथ 21168 के स्तर पर था तो सेंसेक्स 871 अंकों की भारी उछाल के साथ 70456 पर ट्रेड कर रहा था। अमेरिकी शेयर बाजारों में रौनक के बाद आज घरेलू शेयर मार्केट में भी रौनक है। शेयर बाजार की शुरुआत आज भी रिकॉर्डतोड़ रही। सेंसेक्स 561 अंकों की तेजी के साथ आॅल टाइम हाई 70146 के स्तर पर खुला, जबकि निफ्टी 50 ने आज दिन के कारोबार की शुरुआत 184 अंकों की उछाल के साथ 21110 के स्तर से की।

अदाणी ग्रीन का FY25 तक टॉप 10 ESG बेंचमार्क वाली इलेक्ट्रिसिटी कंपनियों में आने का लक्ष्य

नई दिल्‍ली: 

अदाणी ग्रीन एनर्जी लिमिटेड (Adani Green Energy Limited) ने वित्त वर्ष 2025 तक, बिजली उत्पादन-वितरण से जुड़ी दुनिया की टॉप 10 ESG (Environment, Social, Governance) बेंचमार्क वाली कंपनियों में शामिल होने का लक्ष्य रखा है. अदाणी ग्रीन ने एक प्रेजेंटेशन में कहा, ‘हम पहले ही इस दिशा में कदम बढ़ा चुके हैं, इसके तहत ‘सिंगल-यूज प्लास्टिक’ के उपयोग को हम 2022 में ही पूरी तरह खत्म कर चुके हैं. कंपनी का प्लान है कि 2025 तक सभी प्लांट में 100% वॉटर न्यूट्रल कैपेसिटी विकसित की जाए.’

FY23 तक कंपनी, बारिश के पानी को इकट्ठा करने की कुल 1,93,389 क्यूबिक मीटर प्रति साल की क्षमता विकसित कर चुकी है. बता दें कि कंपनी का सालाना फ्रेशवॉटर कंजंपशन 1,72,291 क्यूबिक मीटर है. वित्त वर्ष 2025 तक अदाणी ग्रीन का लक्ष्य, कचरे को लैंडफिल में डिस्पोज न करने की ऑपरेटिंग कैपिसिटी को 100% तक पहुंचाने का है. कंपनी इस दौरान जैव विविधता के क्षेत्र में जीरो नेट लॉस वाली कंपनी बनने की कोशिश भी करेगी.

बीक्‍यू प्राइम की खबर के मुताबिक, पर्यावरण के क्षेत्र में मुख्य तौर पर, रिन्युएबल एनर्जी उत्पादन के जरिए ग्रिड का डिकार्बनाइजेशन कर कार्बन फुटप्रिंट को घटाने जैसे तरीकों के साथ नई और ज्यादा बेहतर रिन्युएबल तकनीकों को सहायता देने पर ध्यान केंद्रित होगा. प्राकृतिक संसाधनों के संरक्षण और जैव विविधता प्रबंधन (जैसे फ्रेशवॉटर के उपयोग को कम करना), कचरा प्रबंधन और सर्कुलर इकोनॉमी पर भी बराबर ध्यान केंद्रित किया जाएगा.

अदाणी ग्रीन FY23 तक कुल 36.70 मिलियन टन कार्बन डाइऑक्साइड के निष्पादन को कम कर चुकी है. जबकि FY16 में ये आंकड़ा महज 0.14 मिलियन टन ही था. सिर्फ FY23 में 13.50 मिलियन टन कार्बन डाइऑक्साइड का कम निष्पादन किया गया. जबकि FY22 में ये आंकड़ा 8.60 मिलियन टन था.

FY24 और FY26 में नए ESG टार्गेट्स तय किए जाएंगे
अपने लक्ष्यों को पाने के लिए कंपनी ने सभी जगहों पर TCFD (Task Force On Climate Related Financial Disclosures) फ्रेमवर्क के तहत FY24 में मौसम परिवर्तन का जोखिम मूल्यांकन करने का फैसला किया है. मौजूदा वित्त वर्ष में कंपनी AEGL लेवल पर इंटरनल कार्बन प्राइसिंग लाएगी और FY25 तक TNFD (Task Force On Nature Related Financial Disclosures) फ्रेमवर्क के तहत सभी काम की जगहों पर प्रकृति से संबंधित आकलन किए जाएंगे. अदाणी ग्रीन के मुताबिक, कंपनी FY26 तक सभी ऑपरेशनल लोकेशंस के लिए वॉटर पॉजिटिव स्टेटस हासिल करेगी. साथ ही FY26 तक ESG आकलन पूरा कर लिया जाएगा. वहीं सभी अहम मैन्यूफैक्चरिंग सप्लायर्स को ग्रीन हाउस गैस सप्लायर्स एंगेजमेंट प्रोग्राम से जोड़ा जाएगा, जो वैल्यू चैन के डिकॉर्बनाइजेशन के लिए चलाया जाने वाला कार्यक्रम है.

तक रिन्युएबल एनर्जी की क्षमता 45 GW करने का लक्ष्य
2030 तक कंपनी का 45,000 MW की रिन्युएबल एनर्जी कैपेसिटी विकसित करने का लक्ष्य है. फिलहाल अदाणी ग्रीन के पास कुल 20,434 MW का पोर्टफोलियो है, जिसमें 8,200 MW की उत्पादन कैपेसिटी मौजूद है, जबकि 12,200 MW की कैपेसिटी, निर्माणाधीन या निर्माण के बेहद करीब है. कंपनी ने कहा कि अदाणी ग्रीन के NTPC और SECI (Solar Energy Corporation Of India) जैसी सॉवरेन कंपनियों के साथ 86% पावर पर्चेज एग्रीमेंट हैं. 97% पोर्टफोलियो लॉन्ग टर्म कॉन्ट्रेक्ट हैं, जिनमें 25 साल का फिक्स टैरिफ है. प्रोजेक्ट के लिए एवरेज पोर्टफोलियो टैरिफ 2.97 रुपये प्रति यूनिट है.

विश्व में चावल की कमी 20 सालो में सबसे बड़ी होने वाली है……

चावल का उत्पादन अमेरिका से लेकर चीन और यूरोपीय संघ तक गिर रहा है। इसके परिणामस्वरूप पूरे ग्रह में 3.5 बिलियन से अधिक लोगों के लिए कीमतें बढ़ रही हैं, विशेष रूप से एशिया-प्रशांत क्षेत्र जो दुनिया में लगभग 90 प्रतिशत चावल की खपत करता है।

फिच सॉल्यूशंस ने कहा कि विश्व स्तर पर चावल बाजार 2023 में 20 वर्षों में अपनी सबसे बड़ी कमी को पूरा करने के लिए तैयार है। सीएनबीसी ने विश्लेषकों का हवाला देते हुए बताया कि दुनिया में सबसे अधिक खेती वाले अनाज में से एक के लिए इस परिमाण की कमी प्रमुख आयातकों को नुकसान पहुंचाएगी। फिच सॉल्यूशंस के कमोडिटी एनालिस्ट चार्ल्स हार्ड ने सीएनबीसी को एक साक्षात्कार में बताया कि वैश्विक स्तर पर, वैश्विक चावल की कमी का सबसे स्पष्ट प्रभाव रहा है, और अभी भी चावल की दशक-उच्च कीमतें हैं।

हाल ही में फिच सॉल्यूशंस कंट्री रिस्क एंड इंडस्ट्री रिसर्च ने कहा कि चावल की कीमतें 2024 तक वर्तमान उच्च स्तर के आसपास रहने की संभावना है। CNBC ने रिपोर्ट का हवाला देते हुए बताया कि चावल की कीमत 2023 YTD के माध्यम से औसतन $17.30 प्रति cwt थी और 2024 में केवल 14.50% प्रति cwt तक कम होगी। Cwt एक इकाई है जो चावल जैसी कुछ वस्तुओं को मापती है। हार्ट ने सीएनबीसी को बताया, “यह देखते हुए कि एशिया के कई बाजारों में चावल मुख्य खाद्य वस्तु है, कीमतें खाद्य मूल्य मुद्रास्फीति और खाद्य सुरक्षा का एक प्रमुख निर्धारक हैं, विशेष रूप से सबसे गरीब परिवारों के लिए।” सीएनबीसी ने बताया कि रिपोर्ट में अनुमान लगाया गया है कि 2022/23 के लिए चावल की वैश्विक कमी 8.7 मिलियन टन होगी। हार्ट ने कहा कि यह 2003/04 के बाद से सबसे बड़ा वैश्विक चावल घाटा होगा, जब विश्व स्तर पर चावल के बाजारों ने 18.6 मिलियन टन की कमी पैदा की थी।

भारत, जो चावल का दुनिया का शीर्ष निर्यातक है, ने बढ़ती मुद्रास्फीति की पृष्ठभूमि में अपने टूटे हुए चावल के निर्यात पर अंकुश लगाया है। पिछले तीन वर्षों में, COVID-19 महामारी, रूस-यूक्रेन युद्ध, रूस पर प्रतिबंध, चीन की शून्य-कोविड नीति जैसे कारकों के परिणामस्वरूप मांग-आपूर्ति बेमेल हुई है, जिसके परिणामस्वरूप कीमतें बढ़ी हैं। यूएस फेड के नक्शेकदम पर चलते हुए दुनिया भर के केंद्रीय बैंक बढ़ती महंगाई से लड़ने के लिए अपनी उधार दरों में वृद्धि कर रहे हैं। अब दुनिया संभावित वैश्विक मंदी और संभावित मंदी की ओर देख रही है। इन सभी कारकों के साथ-साथ प्रमुख उत्पादक राज्यों में औसत से कम मानसून वर्षा के कारण उत्पादन पर चिंता के कारण, भारत ने भी सितंबर 2022 में टूटे चावल के निर्यात पर प्रतिबंध लगा दिया और विभिन्न अन्य ग्रेड पर 20 प्रतिशत शुल्क लगाया।

इन प्रतिबंधों के बावजूद, भारत का चावल निर्यात 2022 में 3.5 प्रतिशत बढ़कर रिकॉर्ड 22.26 मिलियन टन हो गया, जो अगले चार सबसे बड़े निर्यातकों – थाईलैंड, वियतनाम, पाकिस्तान और संयुक्त राज्य अमेरिका के संयुक्त शिपमेंट से अधिक था।

Scroll to Top
Verified by MonsterInsights