Hindustanmailnews

February 12, 2024

मोबाइल बना दोस्ती का जरिया… प्रॉपर्टी ब्रोकर ने किया रेप

इंदौर में छोटी ग्वालटोली पुलिस ने प्रॉपर्टी ब्रोकर के खिलाफ केस दर्ज किया है। वह दो साल तक वीडियो और फोटो के नाम पर पीड़िता को ब्लैकमेल करता रहा। प्रॉपर्टी ब्रोकर भाजपा के एक वार्ड का अध्यक्ष रह चुका है। साड़ी की दुकान भी है। उसने पीड़िता का मोबाइल चोरी होने के बाद बहाने से दोस्ती की थी। पीड़िता दो साल तक परेशान होती रही। आरोपी नितिन जैन दोस्ती तोड़ने के नाम पर जान से मारने की धमकी देता। पीड़िता ने रविवार को नितिन के खिलाफ केस दर्ज करा दिया। पुलिस ने रविवार रात चंदन नगर से उसे हिरासत में लिया।
सुदामा नगर निवासी 25 वर्षीय पीड़िता एक फैक्ट्री में काम करती है। 2022 में उसका मोबाइल गुम हो गया। इसकी शिकायत करने द्वारकापुरी थाने पहुंची। थाने में मौजूद प्रॉपर्टी ब्रोकर नितिन पुत्र पारसमल जैन ने उसकी मदद की। पुलिसकर्मी दोस्तों से कहकर जल्द मोबाइल ढूंढ़ने को कहा। पीड़िता ने पुलिस को बताया कि उसके कहने के बाद पुलिस ने मेरा मोबाइल ढूंढ़ दिया। तब तक वह मुझे दूसरे फोन पर बात करके मोबाइल के बारे में पूछता रहा। मोबाइल मिलने के बाद मैंने थैंक यू कहने के लिए नितिन को फोन किया। इसके बाद से दोस्ती हो गई।
बर्थ-डे पार्टी के बहाने बुलाया होटल – पीड़िता ने पुलिस को बताया कि अप्रैल-2022 में नितिन ने बर्थ-डे पार्टी के लिए बुलाया। मुझे छोटी ग्वाल टोली स्थित महालक्ष्मी पैलेस होटल में आने को कहा। यहां उसके साथ कोई नहीं था। उसने मुझे कोल्ड ड्रिंक बताकर बियर पिला दी। जब मैं बदहवास हो गई तो मेरे साथ रेप किया। मेरे फोटो-वीडियो बनाए। होश में आने के बाद पीड़िता नितिन पर नाराज हुई तो जल्द शादी करने की बात कही। यहां से जाने के दो-तीन बाद नितिन मुझे कॉल करता। कहता था संबंध बनाने हैं। जब मैंने नितिन को आने से इनकार किया तो कहने लगा कि होटल में मैंने तुम्हारे फोटो-वीडियो बना लिए हैं। यदि नहीं आई तो वायरल कर दूंगा। तुम समाज में कहीं की नहीं रहोगी। इस बात पर नितिन दो सालों तक पीड़िता से संबंध बनाने ब्लैकमेल करता रहा।
शादी का झांसा देकर बनाए संबंध, केस दर्ज
इंदौर की छोटी ग्वालटोली पुलिस ने युवती की शिकायत पर रेप का केस दर्ज किया है। युवती ने पुलिस को बताया कि इलाके की एक होटल में प्रॉपर्टी ब्रोकर ने शादी का झांसा देकर रेप किया है। पुलिस का कहना है कि प्रॉपर्टी ब्रोकर द्वारकापुरी में रहता है। आरोपी ने शादी की बात की और बर्थ-डे मनाने का कहकर अपने साथ होटल में लेकर आया था।

रेल रेस्टोरेंट बंद, फूड स्टॉल भी नहीं, यात्री परेशान

यदि आप भोपाल रेलवे स्टेशन जाएं, तो खाने-पीने का सामान अपने साथ लेकर जाएं। अन्यथा परेशान होंगे। कुछ महीने पहले इस एंट्री पर रेल रेस्टोरेंट खुला था परंतु अब वह बंद हो चुका है। वहीं, नई बिल्डिंग के फर्स्ट फ्लोर पर अपेक्षित रिस्पांस नहीं मिलने से कोई भी कांट्रेक्टर फूड लाउंज शुरू नहीं करना चाहता।
भोपाल स्टेशन के प्लेटफॉर्म नंबर-6 पर कोई फूड स्टॉल, रेस्टोरेंट आदि की व्यवस्था नहीं होने पर रेलवे ने यात्रियों के लिए 5 लाख रुपए खर्च कर कोच रेस्टोरेंट शुरू करवाया था। लेकिन उसकी लोकेशन के कारण वह चला नहीं तो कांट्रेक्टर ने उसे सरेंडर कर दिया। बीच में रेल प्रशासन ने दोबारा उसे शुरू करवाने का प्रयास किया लेकिन करीब डेढ़ महीने पहले कांट्रेक्टर ने उसे बंद कर दिया। अब रेल अधिकारी जल्द ही रेल कोच रेस्टोरेंट एक बार फिर शुरू करवाने का दावा कर रहे हैं। आम दिनों में भोपाल स्टेशन का फुटफॉल करीब 65 हजार यात्री प्रतिदिन का है। वहीं, छह नंबर की ओर से करीब 40 हजार यात्री हर दिन आवागमन करते हैं। इस वजह से यहां पर रेस्टोरेंट या फूड प्लाजा अथवा होटल की जरूरत है। दूसरी ओर फूड प्लाजा बंद: उधर, प्लेटफॉर्म नंबर-1 की ओर खाने-पीने की अच्छी सुविधा के रूप में फूड प्लाजा संचालित होता रहा है। लेकिन करीब 8 महीने से वह भी बंद है। आईआरसीटीसी ने उसके लाइसेंस को भी सरेंडर करवा रखा है। नई बिल्डिंग में भी एग्जीक्यूटिव लाउंज या अन्य कोई सुविधा भी शुरू नहीं हो सकी है। इस मामले में सीनियर डीसीएम सौरभ कटारिया का कहना है कि रेल रेस्टोरेंट की लोकेशन में सुधार कर उसे फिर से शुरू करवाया जाएगा।

आर्थिक स्थिति सुधारने के लिए ‘पेड पार्किंग’ शुरू करने की कवायद

नगर निगम अपनी आर्थिक स्थिति सुधारने के लिए फिर पेड पार्किंग शुरू करने की तैयारी में है। 15 मार्च के बाद यह व्यवस्था शुरू हो सकती है। नई व्यवस्था में तीन बड़े बदलाव हैं। पहला- 25 हजार लोगों को फ्री पास जारी होंगे, जिन्होंने 2022 में 1 मई से 15 अगस्त के बीच नई गाड़ी खरीदी थी और तब एकमुश्त पार्किंग शुल्क दिया था।
दूसरा- प्रीमियम पार्किंग की संख्या दो से बढ़ाकर 4 हो जाएगी। तीसरा- कांट्रैक्टर को आवंटित पैकेज की 100% राशि एडवांस जमा कराने के साथ बैंक गारंटी भी देनी होगी। निगम ने शहर के पार्किंग स्थलों को 17 पैकेज में बांटा है। इनमें कुल 35 पार्किंग हैं। न्यू मार्केट के आसपास के पार्किंग स्थल ट्रैफिक पुलिस ने खत्म करा दिए हैं। यहां केवल टॉप एन टाउन के सामने वाली लाइन में प्रीमियम पार्किंग की अनुमति है।
नई प्रीमियम पार्किंग जय स्तंभ और डीबी मॉल के सामने
पहले न्यू मार्केट में टॉप एन टाउन के सामने और छप्पन भोग के सामने वाली लाइन मे ही प्रीमियम पार्किंग थीं। इस बार न्यू मार्केट स्थित जय स्तंभ और डीबी मॉल के सामने पार्किंग को भी प्रीमियम में शामिल किया है।

चार्टर्ड बस ने मारी टक्कर, ट्रक से टकराई स्कूल बस

राजीव गांधी चौराहे पर सत्यसाईं स्कूल बस को चार्टर्ड बस ने पीछे से टक्कर मार दी। इसके बाद स्कूल बस सामने खड़े ट्रक से जा टकराई। हादसे में एक स्टूडेंट समेत 4 लोग घायल हुए हैं।
एक्सीडेंट सुबह करीब साढ़े 7 बजे राजीव गांधी चौराहे के पास हुआ। यहां श्री सत्य सांईं विद्या विहार स्कूल की बस स्टूडेंट को लेने के लिए खड़ी थी। इसी बीच इंदौर-रतलाम चार्टर्ड बस पीछे से जा घुसी। बस में एक छात्रा और महिला केयर टेकर बैठे थे। दोनों के साथ कंडक्टर और ड्राइवर को भी चोटें आई हैं। छात्रा और केयर टेकर को चोइथराम अस्पताल में भर्ती कराया गया है। चार्टर्ड बस इंदौर से रतलाम जा रही थी। बस ड्राइवर पंकज गिरी ने बताया, ह्यसामने अचानक मोटर साइकल आ गई। उसे बचाने का प्रयास किया। इस दौरान लेफ्ट टर्न पर खड़ी स्कूल बस से हमारी बस टकरा गई। हमारी बस की किसी भी सवारी को चोट नहीं आई है।

मरीज के पलंग पर बैठकर रील बनाई, 38 मेडिकल स्टूडेंट को सजा, डॉक्टर सस्पेंड

कर्नाटक के 38 छात्र-छात्राओं को मेडिकल कॉलेज कैंपस में इंस्टाग्राम रील बनाने पर सजा दी गई है। स्टूडेंट्स ने ‘रील इट, फील इट’ टैगलाइन के साथ मरीजों के पलंग पर बैठकर रील बनाई थी।
एक दिन पहले भी कर्नाटक के ही एक और मेडिकल कॉलेज के ओटी में डॉक्टर का ओटी में फर्जी आॅपरेशन करने का वीडियो सामने आया था। इस मामले में डॉक्टर को बर्खास्त कर दिया गया था। गडग जिले के मालासमुद्र में गडग इंस्टीट्यूट आॅफ मेडिकल साइंसेज मौजूद हैं। यहां के मेडिकल स्टूडेंट्स के कुछ इंस्टाग्राम रील सोशल मीडिया पर वायरल हैं। इनमें स्टूडेंट्स मरीज के पलंग पर बैठे नजर आए। इसके अलावा भी कैंपस के अंदर बनाए गए और भी रील वायरल हैं। इंस्टीट्यूट के डायरेक्टर डॉ. बसवराज बोम्मनहल्ली ने कहा कि ये गंभीर गलती है। रील बनाने वाले 38 मेडिकल स्टूडेंट्स की हाउसमैनशिप ट्रेनिंग 10 दिन के लिए बढ़ा दी गई है। स्टूडेंट्स को कैंपस के बाहर रील बनानी चाहिए थी। उन्होंने आगे कहा कि ऐसी गतिविधियों के लिए हमने परमिशन नहीं दी है। सभी को मरीजों को सुविधा का ध्यान रखना चाहिए था। वहीं, स्टूडेंट्स का कहना है कि ये रील प्री-ग्रेजुएशन समारोह के लिए रिकॉर्ड किया गया था।
कर्नाटक के चित्रदुर्ग जिले के भरमसागर गवर्नमेंट हॉस्पिटल के एक डॉक्टर को आॅपरेशन थिएटर में प्री-वेडिंग शूट करने पर बर्खास्त कर दिया गया। डॉक्टर ने अपनी मंगेतर के साथ ओटी में फेक सर्जरी की थी। इसका वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो गया था।

Scroll to Top
Verified by MonsterInsights