Hindustanmailnews

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह

फिनिक्स पक्षी : नए बंगले में पहुंचते ही शिवराज ने शुरू कर दिया जनता दरबार

मध्यप्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान ने गुरुवार को अपने नए आवास पर जनता दरबार लगाया, जिसमें एक महिला बुधनी में रेत माफिया और एसडीएम के दुर्व्यवहार की शिकायत लेकर पहुंची। एक अन्य महिला ने लाड़ली बहना की राशि नहीं मिलने की भी शिकायत की।
शिवराजसिंह चौहान एक दिन पहले बुधवार को ही नए आवास इ-8, 74 बंगले पर शिफ्ट हुए हैं। उन्होंने कहा था कि वे रोजाना सुबह 11 बजे से दोपहर 12:30 बजे तक बंगले पर आम लोगों से मुलाकात करेंगे। गुरुवार को पहले दिन जनता दरबार में 300 से ज्यादा लोग पहुंचे। इनमें बीजेपी कार्यकर्ता और स्कूली बच्चे शामिल थे।
महिला बोली- गांव में रेत माफिया
की मनमानी चल रही
शिवराज के जनता दरबार में उनके गांव जैत से दो किलोमीटर दूर नारायणपुर से महिला किसान रामेती बाई भी पहुंची। रामेती ने बताया- गांव में रेत माफिया की मनमानी चल रही है। वे हमारी जमीनों से डंपर निकालते हैं। खेत तो खराब हो ही रहा है, धूल के कारण आसपास की फसलों को भी नुकसान पहुंच रहा है। रामेती बाई ने कहा कि घाट पर जाने के लिए अलग रास्ता है, लेकिन रेत माफिया 10 किलोमीटर का फेर बचाने के लिए खेतों को खराब कर रहे हैं। महिला के साथ आए अभिलेष पटेल ने कहा- प्रशासनिक अधिकारी रेत माफिया की मदद करते हैं। वे किसानों को धमकी देते हैं कि अगर काम में बाधा डाली तो अच्छा नहीं होगा। रामेती के अलावा 7 से 8 किसान और हैं, जिनके खेतों में से रेत माफिया डंपर निकालते हैं।

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा- प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भगवान का वरदान

मात्रा ढाई घंटे सोया हूं मैं नाम का नहीं काम का शिवराज

हिन्दुस्तान मेल, भोपाल
मध्य प्रदेश विधानसभा चुनाव का मतदान होने के बाद सोमवार को मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने पत्रकारों से अनौपचारिक चर्चा में कई उलझे हुए सवालों के खुलकर जवाब दिए।
सीएम ने विधानसभा चुनाव के दौरान सबसे ज्यादा कॉन्ट्रोवर्सी पैदा करने वाले अपने बयानों के पीछे के किस्से भी बताए। मैं कभी नाम के चक्कर में पड़ा ही नहीं। मैं काम में विश्वास करता हूं। इस बार के चुनाव में मात्र ढाई घंटे ही सो पाता था। पिछले 2013 और 2018 के चुनावों की तुलना में इस इलेक्शन में कई गुना ज्यादा मेहनत की। ये अपने-अपने सोचने का तरीका है। लोग इसी सोच में डूबे रहते हैं मेरा नाम नहीं हो रहा है तो मैं क्यों करूं। मुझे आगे नहीं किया तो मैं क्यों करूं। मैंने तो जितनी शक्ति है उससे ज्यादा ऊर्जा के साथ काम किया।

भैया चला जाएगा तो बहुत याद आएगा- वो बात ऐसे निकली- हुआ यूं कि मैं लाडकुई में था और मेरे क्षेत्र का एक व्यक्ति मुझसे कहने लगा कि भैया आपने ये नहीं किया, मेरा ये काम नहीं किया। वो जब बहुत सारी बातें करने लगा तो मैंने कह दिया कि भैया चला जाएगा तो बहुत याद आएगा।
चुनाव लड़ूं या या ना लडूं?- हां, वो ऐसा है कि कई बार मेरे अपने क्षेत्र बुधनी के लोग छोटी-छोटी बातों पर नाराजगी जाहिर करने लगते हैं। लोगों का मुझसे लगाव – जुड़ाव ऐसा है कि लोग जो मन में आता है, वो मुझसे कह देते हैं। मैं भी प्रेम परीक्षा लेने के लिए कह देता हूं कि मैं भोपाल से लड़ लूं.. तो बुधनी के लोग कहने लगते हैं- ऐसे कैसे लड़ लेंगे? कभी विदिशा के लोग आ जाते हैं कि हमारे यहां से लड़ लो, तो मैंने मंच से पूछ लिया था कि चुनाव लड़ूं या ना लड़ूं?

बीजेपी कितनी सीटें जीत रही है- मैं तो ये कहूंगा कि सभी 230 सीटों पर पार्टी के कार्यकर्ताओं ने मेहनत की है। हम ये कह सकते हैं कि भारतीय जनता पार्टी को प्रचंड बहुमत मिलने जा रहा है।
लाड़ली बहना योजना का इम्पैक्ट- 27 फरवरी की बात है, मेरे दिमाग में ये बात आई कि बहनों के लिए क्या किया जाए फिर कई तरह की बातें मन में आईं। तय किया कि बहनों को निश्चित राशि उनके हाथ में देना है। अब ये बात मन में हिलौरे मार रही थी… सोचा किसको बताएं, फिर मैंने साधना (पत्नी) को ये बात बताई तो उन्होंने कहा कि सबको पैसा कहां से देंगे… लेकिन मैंने तय कर लिया था। अगले दिन नर्मदा घाट पर नर्मदापुरम में मैंने ये घोषणा कर दी कि मप्र में लाड़ली बहना योजना शुरू की जाएगी। अचानक मेरी बात सुनकर सब सोचने लगे कि ये क्या बोल रहे हैं!

गाली / बेपटरी……..

शिवराज ने कमलनाथ से पूछा- धन्य है कांग्रेस, ऐसा काम ही क्यों करते हैं, जिससे गाली खाना पड़े। कांग्रेस और उसके नेता अद्भुत हैं, जो गालियां खाने की भी पॉवर आॅफ अटॉर्नी देते हैं। कमलनाथ ने खुद खुलासा किया है कि गालियां खाने की पॉवर आॅफ अटॉर्नी उन्होंने खुद दिग्विजय सिंह को दे रखी हैै। मैं कमलनाथ से पूछना चाहता हूं कि ऐसा काम ही क्यों करते हैं, जिससे गाली खाना पड़े? और जैसे गालियां खाने की पॉवर आॅफ अटॉर्नी दूसरे को दी है, वैसे ही इन्होंने अपनी सरकार चलाने की पॉवर आॅफ अटॉर्नी दिग्विजय सिंह को दे दी थी। सिर्फ बंटाढार। उस समय दिग्विजय ने जो सरकार चलाई और जनता की जो दुर्गति हुई, वो सबको पता है। धन्य है कांग्रेस और उसके नेता, जो गाली खाने की पॉवर आॅफ अटॉर्नी देते हैं।

14 हजार प्रोजेक्ट्स का आज उद्घाटन और शिलान्यास

मप्र में विधानसभा चुनाव की तारीखों का दो दिनों के भीतर ऐलान हो सकता है। चुनाव आदर्श आचार संहिता लागू होने के पहले मप्र सरकार आज प्रदेश भर में निर्माण कार्यों और प्रोजेक्ट्स का भूमिपूजन, लोकार्पण करने जा रही है। खास बात ये है कि एक ही दिन में 53 हजार करोड़ के 14 हजार से अधिक विकास कार्यों का लोकार्पण और शिलान्यास किया जाएगा। इनमें 12 हजार से ज्यादा लोकार्पण है और 2 हजार निर्माण कार्यों के भूमिपूजन किए जाएंगे।
गुफा मंदिर परिसर
में किया भूमिपूजन
शहर के लालघाटी क्षेत्र में स्थित गुफा मंदिर में 34 करोड़ रुपये से संत भवन का निर्माण किया जाएगा। इसके बगल में सामुदायिक भवन भी बनेगा। पहले चरण में नगर निगम द्वारा इन कार्यों के लिए 10 करोड़ रुपये की राशि जारी की गई है। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान शुक्रवार सुबह करीब 11 बजे गुफा मंदिर परिसर में पहुंचे और वैदिक मंत्रोच्चार के बीच इसका भूमिपूजन किया। इस अवसर पर शहर की महापौर मालती राय, पूर्व महापौर आलोक शर्मा समेत बड़ी संख्या में लोग मौजूद रहे।

कमलनाथ पर साधा निशाना
सीएम चौहान ने आरोप लगाया कि कमलनाथ ने पीएम आवास योजना के मकान वापस कर दिए थे। पीएम स्ट्रीट वेंडर योजना में प्रदेश नम्बर वन है। स्मार्ट सिटी में नम्बर एक है। कांग्रेस के कारण कभी प्रदेश बीमारू कहलाता था। लेकिन आज उसी प्रदेश में सिंचाई सुविधा 47 लाख हेक्टेयर पर पहुंच गई है। एमपी तेजी से आगे बढ़ रहा है। इसी बीच सीएम चौहान ने जनता से भी पूछा कि हमने अच्छी सरकार चलाई या बुरी सरकार चलाई। जोरदार आवाज में जनता ने जवाब दिया कि अच्छी सरकार चलाई। चौहान ने आगे कहा कि प्रधानमंत्री की प्रेरणा से आज मंडला के मेडिकल कॉलेज का नाम हृदय शाह मेडिकल कॉलेज कर रहा हूं। छिंदवाड़ा के विश्वविद्यालय का नाम शंकर शाह विश्वविद्यालय है और ये प्रधानमंत्री जी ही हैं, जिनके कारण भोपाल के हबीबगंज का नाम रानी कमलापति रेलवे स्टेशन किया गया।

पीएम मोदी के मिशन में एमपी बना नम्बर वन : सीएम
जबलपुर। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की फ्लैगशिप योजनाओं के क्रियान्वयन में एमपी नम्बर वन रहा है। उन्होंने जबलपुर में वीरांगना रानी दुर्गावती की 500वीं जयंती पर आयोजित समारोह में कहा कि पीएम मोदी का अभिनंदन करता हूं कि उन्होंने बिरसा मुंडा की जयंती को आदिवासी गौरव दिवस घोषित किया। हमने आदिवासियों को जल जमीन और जंगल के अधिकार दिये हैं। पेसा एक्ट के जरिये आदिवासी कल्याण किया। मध्यप्रदेश में आयुष्मान योजना के तीन करोड़ सत्तर लाख कार्ड बने। पीएम आवास में 38 लाख मकान बनाए गए।

Scroll to Top
Verified by MonsterInsights